शांति और विकास के लिए सबसे अहम है आपसी सहयोग: BRICS में बोले मोदी

0
9

शियामेन/नई दिल्ली. चीन के पोर्ट सिटी शियामेन में सोमवार को ब्रिक्स समिट 5 देशों के लीडर्स के ग्रुप फोटोग्राफ से शुरू हुई। इस मौके पर प्रेसिडेंट शी जिनपिंग ने मोदी से हाथ मिलाया और उनका गर्मजोशी से वेलकम किया। मोदी ने सोमवार को समिट के प्लेनरी सेशन में हिस्सा लिया। इस मौके पर उन्होंने कहा, “शांति और विकास के लिए आपसी सहयोग सबसे अहम है। ब्रिक्स बैंक ने कर्ज देने शुरू कर दिए हैं। ये विकास के काम के लिए नई पहल है।” मोदी से पहले जिनपिंग ने प्लेनरी सेशन को संबोधित किया। दोनों नेताओं के बीच बाइलैट्रल बातचीत मंगलवार को होगी। भारत माता की जय के नारे लगे…
– मोदी ने कहा, “ब्रिक्स ने सहयोग के लिए एक मजबूत इन्फ्रास्ट्रक्चर डेवलप किया है। हमें अनिश्चितता की ओर बहती दुनिया में स्टेबिलिटी और डेवलपमेंट का योगदान देना होगा। आपसी सहयोग से ही विकास संभव है। एक ताकतवर ब्रिक्स पार्टनरशिप और इनोवेशन विकास का जरिया बन सकता है। शांति और विकास के लिए सहयोग जरूरी है।”
– “सोलर एनर्जी एजेंडा को मजबूती देने के लिए ब्रिक्स देश इंटरनेशनल सोलर अलायंस (ISA) के साथ काम कर सकते हैं। हमारा मिशन गरीबी को हटाना, हेल्थ, सफाई, स्किल (कौशल), फूड सिक्युरिटी, जेंडर इक्वैलिटी और एजुकेशन तय करना है।”
– सोमवार को समिट के वेन्यू कन्वेन्शन सेंटर पर पहुंचने वाले मोदी तीसरे नेता रहे। उनके बाद रूस के प्रेसिडेंट व्लादिमीर पुतिन पहुंचे। मोदी 9वीं ब्रिक्स समिट में हिस्सा लेने के लिए रविवार शाम शियामेन पहुंचे थे। उन्होंने रात को ही इंडियन कम्युनिटी के लोगों से मुलाकात की। इस दौरान भारत माता की जय के नारे लगे और मोदी-मोदी की गूंज भी सुनाई दी। इससे पहले, भारी बारिश की वजह से एयरपोर्ट पर मोदी की वेलकम सेरेमनी कैंसल करनी पड़ी। 3 सितंबर से शुरू हुई ब्रिक्स समिट 5 सितंबर तक चलेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here