भारतीय बैंकों का फंसा कर्ज 9.5 लाख करोड़ के रिकॉर्ड स्तर पर

0
6

नई दिल्ली। भारत के बैंकों का फंसा हुआ कर्ज 9.5 लाख करोड़ रुपए के रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गया है। जून के आखिर तक के आंकड़ों से पता चलता है कि एशिया की तीसरी बड़ी अर्थव्यवस्था फंसे हुए कर्ज को नियंत्रण में लाने के करीब नहीं है। सूचना के अधिकार के तहत भारतीय रिजर्व बैंक (आर.बी.आई.) से प्राप्त आंकड़ों की समीक्षा से पता चलता है कि बैंकों का कुल फंसा हुआ कर्ज 6 महीनों में 4.5 प्रतिशत बढ़ा है। इससे पहले के 6 महीनों में यह 5.8 प्रतिशत बढ़ा था। आर.बी.आई. के आंकड़ों के मुताबिक जून अंत तक कर्ज का प्रतिशत 12.5 है जो 15 साल में उच्चतम स्तर है। बैंकों और सरकार के लिए इस मुद्दे का एक हिस्सा एक सख्त प्रावधान व्यवस्था है। आरबीआई चाहता है कि बैंकों को दिवालियापन कार्रवाई के लिए ली गई कंपनियों को कम से कम 50 प्रतिशत सुरक्षित ऋण और असुरक्षित भाग के लिए 100 प्रतिशत प्रदान करना है। इस तरह के सबसे बड़े मामलों में से करीब एक दर्जन लगभग करीब 1.78 लाख करोड़ रुपए या कुल गैर-निष्पादित परिसंपत्तियों का एक-चौथाई है। 20 से अधिक अन्य बड़ी कंपनियां जोखिम का शिकार हैं जिनका दिवालियापन के लिए केस अदालत में है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here